Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana

548
0
Matsya Sampada Yojana

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana

New Bharat Yojana में आप का स्वागत है आज हम इस लेख के माध्यम से ये जानेंगे कि Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana है किया?

और भारत में इस योजना की जरुरत क्युँ पड़ी? और आपको इस का लाभ कैसे मिलेगा? आइये इस लेख के माध्यम से इस योजना का लाभ लेने की कोशिश करते हैं

साथियों भारत के मात्स्य पालन में बहुत सारी कमियाँ है जैसे मात्स्य का उत्पादकता में कमी है और इंफ़्रास्ट्रक्चर जो है उसका आधुनिकरण भी नहीं हो पाया है

समुद्र में मछलियों को पता लगाने की योग्यता कम है और टेक्नोलॉजी का प्रयोग नहीं है अभी भी परम्परागत तरीक़ों से मछलियों को पालन पोषण की जाती है इनसारी कमियों को दुर करने के लिए

मतलब के भारत के मात्स्य के अंदर जो भी कमियाँ है उसको टेक्नोलॉजी और महत्वपूर्ण तकनीक द्वारा अच्छा बेहतर बनाने के लिए प्रधान मंत्री मात्स्य संपदा योजना की शुरुआत की गई है।

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana

क्या है मात्स्य सम्पदा योजना

मात्स्य सम्पदा योजना एक एसा योजना है जिसके अंतर्गत सरकार ने भारत वासियों को मात्स्य पाल/मछली पालन करने का एक मुहिम है इस मुहिम में भारत में रोज़गार और व्यवसाय करने का ज़्यादा से ज़्यादा अवसर मिलेगा

जिस से भारत वासियो को काफ़ी लाभ होने वाला है इस योजना के लिए केंद्र सरकार क़रीब 20 हजार करोड़ रुपये निवेश कर रही है और Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana भारत के हर राज्य में लागु किया गया है।

PM Matsya Sampada Yojana का एलान कब हुआ ?

मत्स्य संपदा योजना का एलान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने 15 मई को घोषणा बजट में की थी इसयोजना का शुरुआत करने के लिए क़रीब 20 हजार करोड़ रुपये का घोषणा भी की थी।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 

Pradhan Mantri Matsya Sampada योजना  का उद्देश्य

Matsya Sampada yojana का उद्देश्य ये है कि मछली पकड़ने का का जो इन्फ़्रास्ट्रक्चर उसको मज़बूत किया जाएगा और मछलियों का उत्पादकता बढाइ जाएगी

और मछलियों का पैदावार प्रबंध इन सारी चीजों को ध्यान रखा जाएगा बताना चाहूँगा की पुरे विश्व में मछली सेक्टर में चैलेंज रहे हैं समुद्र में मछलियों की कमी होती जा रही है

इस का कारण जलवायु परिवर्तन है अभी का दौड़ एसा है ख़ासकर के भारत में के मछलियों को पकड़नेके लिए मछुआरों को समुद्र के काफ़ी गहराइयों में जाना पड़ता है

लेकिन इस के लिए ये सोचना होगा अब के मछली समुद्र में कहाँ पर है मछली पता लगाने की योग्यता को बढ़ाने पर खास ध्यान रखा जाएगा उस के लिए हमें टेक्नोलॉजी का सहारा लेना पड़ेगा तो पीएम मत्स्य संपदा योजना का उद्देश्य है की इन सारी चीजों पर विशेष ध्यान रखा जाए।

नीली क्रांति (Blue Revolution) योजना का लक्ष्य क्या है?

हम सब से पहले जानने की कोशिश करते हैं नीली क्रांति (Blue Revolution) के बारे में क्योंकि इस से ये मालूम हो जाएगा कि इन सारी चीजों की शुरुआत कैसे हुआ ?

Blue Revolution का उद्देश्य ये था कि भारत में मछली उत्पादन को बढ़ावा दिया जाएगा ये सातवाँ प्लान था भारत का जिसको लॉन्च किया गया था 1985 से 1990 तक

और इस योजना (Blue Revolution) के माध्यम से केन्द्र सरकार (FFDA) Fish farming development agency को स्पेंसर्स करना शुरु किया इस से बहुत सारे  बदलाव देखने को मिले हमारे भारत के अंदर नई नई तकनीक को अपनाना शुरू किया गया

जैसे की मछलियों का प्रजन्न,मछलियों का पालन पोषण,मछली उत्पादन का विपणन ,मछलियों का निर्यात इत्यादि।

नीली क्रांति (Blue Revolution) का उद्देश्य

नीली क्रांति का 3 उद्देश्य था

1 . मैकेनिकल और तकनीकी विकास करना (Mechanical and Technical Development)

2 . जलीय कृषि के लिए प्रोत्साहन करना (मछलियों को पालना) (Encouragement to aquaculture) (Fish farming)

3 . सहसहायक और विपणन की सुविधा देना (Facility of co-aperative and marketing) 

सवच्छ भारत मिशन ग्रामीण 

Blue Revolution ने क्या प्राप्त किया?

Blue Revolution ने काफी चीज़ें प्राप्त किया है जैसे के आप देख सकते हैं कि अंध्रा प्रदेश और तमिलनाडु नेश्रिम्प फ़ार्मिंग का भी शुरुआत कर दिया है।

बताना चाहूँगा की भारत में 1800 से अधिक प्रजातियाँ है मछलियों का ये मछलियाँ समुद्र में भी पाइ जाती हैऔर नदियों में भी पाइ जाती हैं और इन मछलियों में से बहुत सारी मछलियाँ एसी भी है

जो व्यवसायी तौर परबहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है इन में से कुछ मछलियों का नाम है जो भारत देश में उन मछलियों का बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है

जैसे के Catfish, herring , mackerels, Perches, Mullets, Indian Salmon, Shellfish, Eels , इत्यादि।

जो आठवाँ पॉच साल का योजना था जो 1992 से 1997 तक चला वह योजना Intensive marine fisheries programme के नाम से लॉन्च किया गया था

उस में बहुत सारी प्राइवेट कंपनियों ने भी अपना योगदान दियाथा इस के तहत भारत में बहुत सारे फीशिंग हार्बर भी बनाए गए थे जैसे के टुटीकोर्न , पोरबंदर, होनावर विशाखा पटनम, धर्मरा, कोंचीं इत्यादि।

इसके अलावा भारत में कई रिसर्च सेंटर भी बनाए गए जिस से मछलियों का प्रोडक्शन पोषण पालन दोनों पुरा कर सके

जैसे की फ्रेशवाटर मछलियों के लिए बनाया गया कोलकाता में मरीन फीश के लिए बनाया गया तमिलनाडु में और मुंबई में और सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरिज इंजीनियरिंग ट्रेनिंग बना कोंचीं में।

Blue Revolution का टार्गेट क्या है? और अभी का टार्गेट किया है?

Blue revolution का टार्गेट ये है की 15 मिलियन टन मछलियों का उत्पादन करना है 2020 तक और येBlue Revolution के अंतर्गत किया जाएगा

और 2022-23 तक केन्द्र सरकार का टार्गेट है कि इसे बढ़ा कर20 मिलियन टन तक ले जाना है।

सुकन्या समृद्धि योजना 

भारत में मत्स्य पालन का Scenario

अगर भारत में देखा जाए तो अभी Matsya Sampada का किया Scenario है तो भारत में अभी लम सम 1.5 करोड़ मच्छुआरे हैं और 14 मिलियन फ़िशरमैन हैं

हर प्रकार की मछलियाँ भारत में उपलब्ध है चाहे वो समुद्री मछलियाँ हो या फिर किसी नदी की मछलियाँ हों या फिर नमकीन पानी का मछली हो कृषि मंत्री का कहना है 

कि पुरे विश्व में भारत दूसरे नंबर पर आता है मत्स्य पालन करने में पहला नंबर चीन का है दुसरा नंबर भारत का है।

विश्व में जितना भी मछलियों का उत्पादन होता है उसका 6.3 % भारत में होता है और वह भारत के GDP को1.1 % बढ़ाने में योगदान करता है।

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana PDF

अगर आप Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana  का पी डी एफ फ़ाइल डाउनलोड करना चाहते हैं या देखना चाहते हैं तो इस लिंक परक्लिक कर के डाउनलोड कर सकते हैं।

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana Online Apply

अगर आप Pradhan Mantri Matsya Sampada के लिए ऑनलाइन या ऑफ़लाइन आवेदन करने के लिए सोच रहे हैं तो बताना चाहूँगा कि अभी सरकार के ओर से आवेदन करने का कोई प्रक्रिया सामने नहीं आइ है

और ही कोई पोर्टल लाँच किया गया है आवेदन करने के लिए उम्मीद है कि सरकार के ओर से इस योजना का प्रारंभ जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा और जैसे ही कोई भी आवेदन करने का प्रक्रिया मिलता है

तो इस वेबसाइट पर आपको अपडेट मिल जाएगा अगर और महत्वपूर्ण जानकारी लेना चाहते हैं इस योजना के बारे में तो सरकार के ऑफिसियल वेबसाइट http://nfdb.gov.in/PMMSY पर जाकर जानकारी ले सकते हैं।